कविता · Reading time: 1 minute

(((( नालंदा ))))

((( नालंदा )))

विश्व प्रसिद्ध पुरातन विश्वविद्यालय,
चहुदिश प्रसिद्धि – प्राचीन ज्ञानालय ।
बजता डंका देश-विदेश को जिसका,
है नाम अतिविलक्षण नालंदा उसका ।

प्राचीन भारत का है द्दोतक नालन्दा,
विश्व गुरू प्रदाता है पालक नालन्दा ।
बुद्ध से है जना बुद्धि-विद्वान नालन्दा,
कोई जोड़ नहीं कहीं बेजोड़ नालन्दा ।

है इतिहास विचित्र इसके उद्भव का,
पंच पहाड़ों बीच ये घिरी ज्ञानपीठका ।
उदार दान पा भूमि, धनरूप में चंदा,
न-अल-दा से है मिलकर बना नालन्दा ।

उच्चतम ज्ञान का है ये विशाल पोषक,
पंच विषय रहे हमेशा यहाँ के रोचक ।
कला-शिल्प-धर्म-दर्शन, साहित्य ज्ञान,
हुए अति पूजनीय प्रख्यात सर्व विद्वान ।

है विशेष नालंदा की पुरातन इमारत,
विदेशियों को भी खींच लाती भारत ।
स्थान विशेष इसके दर्शन बड़े निराले,
छबि चित्ताकर्षक होते दर्शक मतवाले ।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
18. 06. 2017

34 Views
Like
You may also like:
Loading...