Skip to content

नारी

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

August 10, 2017

जननी जन्मदायनी ,
नारी तू नारायणी।
हर रूप पूजनीय ,
तेरा स्थान सर्वोपरी।।
?????
मिली नहीं बराबरी ,
पुरुष प्रधान संस्कृति।
उपेक्षित सदा रही ,
विडंबना ये सबसे बड़ी।।
?????
हर युग मैं सदैव ,
तेरी प्रमुखता रही।
जीवन के हर क्षेत्र में ,
सदैव आगे बढ़ी।।

?????
हर कायरों पर भारी,
समझो फूल नहीं चिंगारी।
देवी शक्ति रूपा माँ काली।
ऐसी है भारत की नारी।।
– लक्ष्मी सिंह ??☺

Share this:
Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended for you