नारी सृष्टि

नारी ! जान न पाये भेद तुम्हारा,ब्रह्मा विष्णु महेश।
रहस्य तुम्हारा जानने को, नारी ! हुआ होगा उनमें महा क्लेश।

पार न पाया होगा तुमसे,तभी प्रकृति नाम दिया।
हे नारी ! सत रज तम को उत्पन्न कर,सृष्टि रचने का काम किया।

तू ही आदि,तू ही अनादि,तेरे सिवा कुछ शेष नहीं।
छुप सकता कैसे काल भला ! ऐसा कोई भेष नहीं।

तेरे आगे सृष्टि नतमस्तक, फिर ! कर सकता क्या महाकाल भला ?
सब दौड़े तेरे आगे पीछे,पाकर संकेत तेरा ही तो यह चक्रकाल चला।

शक्ति कैसे दे दी तुमने,कलयुग के इस मानव को।
समझ न आया मुझकों, वरदान ये कैसा दे गई इस दानव को।

किये न हो इस मानव ने,ऐसा कोई अपराध नहीं।
दुष्कर्म हत्या लूटपाट से,क्या तेरी सृष्टि बर्बाद नहीं !
उठा हथियार छीन ले शक्ति,ये दुनिया अब आबाद नहीं।

नहीं रही ये देव सृष्टि, उठ ! अब हाहाकार मचा।
तुझे देखने को हे दुर्गा ! प्रकृति ने मंच रचा।

रणचण्डी बनकर ताण्डव कर,तू काली बनकर ताण्डव कर।
कर वश में अपनी सृष्टि को,कुछ और नये तू पाण्डव कर।

ज्ञानीचोर
9001324138

4 Likes · 5 Comments · 36 Views
अविवाहित, पसंद ग्रामीण संस्कृति, रूचि आयुर्वेद में MA HINDI B.ed,CTET NET 8time JRF Hindi Phd...
You may also like: