.
Skip to content

नारी शक्ति

Rajni Ramdev

Rajni Ramdev

कुण्डलिया

March 8, 2017

नारी फौलादी समझ, सुकुमारि नही मान
उमा रमा सीता सती, …रानी झाँसी जान
रानी झाँसी जान…,.. मान मत यूँ बेचारी
आती अपनी आन,… तानती देख कटारी
कह रजनी हर्षाय, ….जने ये दुनियाँ सारी
गोद खिलाये ब्रह्म, ..धन्य भारत की नारी
#रजनी

Author
Rajni Ramdev
रजनी रामदेव जन्मस्थान कानपुर बी एस सी (मैथ्स) पति--एस एन रामदेव शौक--गद्य , पद्य लेखन,गायन और साहित्य पठन कुछ फेसबुक के साहित्यिक ग्रुप्स में सम्मान तथा कुछ रचनाएँ प्रकाशित
Recommended Posts
वीरता की मिसाल --झाँसी की रानी
वीरता की मिसाल --झाँसी की रानी ******************************* *मोरोपंत ताम्बे की बेटी मणिकर्णिका ताम्बे थी । नाना की थी बहन छबीली लक्ष्मीबाई झाँसी थी । हुआ... Read more
"*नारी की महत्ता पर दोहे* *************** नारी जग का मूल है, नारी से संसार। नारी जीवन दाायिनी,पूजो बारंबार।। नारी घर की आन है, नारी घर... Read more
निर्भया
यह कविता दुभग्यपूर्ण निर्भया प्रकरण के बाद लिखी गयी .. नारी तू तोह भारत का मान है सम्मान है फिर क्यों हो रहा  आज इस... Read more
****नारी ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना*****
****----****----**** १. ***नारी दे ,नारी को मान तभी बनेगा वंश विशाल नारी को दें पूर्ण सम्मान नारी है ममता की खान २. ***नारी तू शक्ति... Read more