Skip to content

नारी तू नारायणी

पण्डित योगेश शर्मा

पण्डित योगेश शर्मा

लेख

August 25, 2017

#शर्मा_जी_कहिन✍
अपनी आँखों,अपनी वाणी, और अपने दर्शन से विश्व को मोहित करदेने वाली खुद की परवाह किये बगैर स्वजीवन को ओरो पर समर्पित करदेनी वाली एक माता,एक बहन,एक पत्नी का योगदान जीवन अतुलनीय,और अनिवर्चनीय हे ईश्वर की सर्वोत्तम कृति के अनुरूप अपने दर्शन से आधुनिकता में बदलते हुए अंग-अंग के प्रदर्शन तक नारी का सफर जारी है,
आँखे देखने में अक्षम हो उस दुरी से खुद की एक झलक दर्पण में डाल खिलजी को मोहित करदेने वाली पद्मिनी हो या महृषि,तप्सियो का तप भंग करदेने वाली अप्सरा अपने सौदर्य के साथ ही अपने शिष्टाचार के लिए वन्दित हे,
अपने अस्तित्व के होने की गवाही भारतीय नारी पुरातन काल से ही देती आयी है,
विद्वता में विदुषी मैत्री,गार्गी हो,अपने पति की प्राण रक्षा हेतु यमराज से भीड़ जाने वाली सावित्री हो या युद्ध कौशल में कुशल झाँसी की रानी,भाष्य टिका लिखने में तल्लीन पति की सेवा में ततपर रहने वाली जेमिनी हो जो पति के साथ 40 वर्षो तक रह उनकी सेवा करके काम को जीत गई(जेमिनी टिका उनके नाम पर हे),अनन्त प्रतीक्षा की प्रतीक देवी उर्मिला हो या फिर अपने पति के साथ असहनीय दुखो,कष्टों को सहन करने वाली माँ सीता,हर क्षण हर पल अपनी सांसो को खुद लेकर उनका कर्ज वो अपने समर्पण से चुकाती हे ।
विश्व की हर नारी वन्दनीय हे ,उनका सम्मान करें सम्मान न दे सके तो कृपया अपमान तो न ही करे ,

यत्र नारी पूज्यते ,रमन्ते तत्र देवता
#नारायणी_नमोस्तुते ।।

पण्डित योगेश शर्मा !✍

Author
पण्डित योगेश शर्मा
मिलते रहिये मिलते रहने से मिलते रहने का सिलसिला हु में ।।
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more