नारी तुम अपनी पहचान करो ।

नारी तुम अपनी पहचान करो ।
उठकर अपना सम्मान करो ।
अबला नहीं तुम तो सबला हो
शक्ति हो तुम ये तो ध्यान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो।
उठकर अपना सम्मान करो।
*
ममता की तो मूरत हो तुम ।
प्रेम भाव की सूरत हो तुम ।
सबके लिए तो तुम जीती हो
पर तुम भी हो कुछ ज्ञान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो।
उठकर अपना सम्मान करो।
*
सबकी खुशी में खुश हो लेती हो।
अपने आंसू को तो पी लेती हो ।
अबला हो ये क्यों दर्शाती हो तुम
जागो और अपना उत्थान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो ।
उठकर अपना सम्मान करो ।
@पूनम झा। कोटा,राजस्थान।
#######################

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like 1 Comment 0
Views 132

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing