.
Skip to content

* नारी को भी अब जीना आ गया *

Neelam Ji

Neelam Ji

कविता

August 13, 2017

देखा नहीं था बुरी नजर से ,
जिसने दुश्मन को भी कभी ।
आज उसे अपने भले बुरे की ,
पहचान करना आ गया ।
जो ममता की मूरत थी कभी ,
आज उसे दंड देना आ गया ।
टूट कर बिखर जाती थी जो ,
बिखर कर सम्भलना आ गया ।
जिसका जी चाहे गिरा देता था ,
आज हर हाल में चलना आ गया ।
अब ना हक छिन पाएगा कोई ,
हक उसको भी लेना आ गया ।
जिसको हमेशा कमतर समझा ,
उसे भी डटकर लड़ना आ गया ।
दबाकर चुप कराने वालो ,
आज उसे जवाब देना आ गया ।
हंसकर सह लेती थी हर पीड़ा ,
उसको आवाज उठाना आ गया ।
हर जीव को मान देने वाली को ,
अपना मान कराना आ गया ।
संकीर्ण पुराणी रूढ़ियों को ,
बदलते दौर में बदलना आ गया ।
थी घुट-घुट कर जीने को मजबूर ,
मजबूरियों से लड़कर जीना आ गया ।
जिसकी जुबाँ से बस हाँ सुनता था ,
आज उसे ना कहना आ गया ।
जीतकर दिखाएगी हर हाल में ,
खुद को साबित करना आ गया ।
अर्धांगिनी बनकर नर की ,
नर के बराबर खड़े होना आ गया ।

Author
Neelam Ji
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।
Recommended Posts
*इन्विट्रो फर्टेलाईजेशन* के साईड एफेक्ट  पर एक कहानी
*इन्विट्रो फर्टेलाईजेशन* जैसे अविष्कार ने आज कल जिस तरह एक व्यापार का रूप ले लिया है,जैसे कि कुछ लोग तो सही मे औलाद चाहते हैं... Read more
सुखदा------ कहानी
कहानी इस कहानी मे घटनायें सत्य हैं मगर पात्र आदि बदल दिये गये है। ओझा वाली घटना एक पढे लिखे और मेडिकल प्रोफेशन मे काम... Read more
कहानी अनन्त आकाश --- कहानी संग्र्ह वीरबहुटी से
कहानी --- लेखिका निर्मला कपिला ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओंओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर... Read more
कहानी अनन्त आकाश -------  वीरबहुटी संग्रह से
कहानी ये कहानी भी मेर पहले कहानी संग्रह् वीरबहुटी मे से है कई पत्रिकाओं मे छप चुकी है और आकाशवाणी जालन्धर पर भी मेरी आवाज... Read more