"नारी के स्वरूप"

उन्मुक्त पवन में मुझे देख , चुम्बन अर्पित करने वालों |
मेरी छवि की इस सरिता पर , न्योछावर तन करने वालों |

सोलह सिंगार से रची हुई मैं तरुण तरणि की आभा हूँ |
यौवन की नई ज्योति बनकर , मै ही रति की मर्यादा हूँ ||

मानव की हर इक विजयों में , मै ही प्रेरणा श्रोत बनती |
संघर्ष भरे इस जीवन की , मै ही आधारशिला बनती |

मुझ में सत्ता ईश्वर की है , मै देव रूप प्रतिमा भी हूँ |
जिस सत्ता से संसार चला , उस सत्ता की गरिमा मै हूँ ||

मैं जननी भाग्य विधाता की , हूँ तुच्छ मानवों की माता |
मैं माता , रानी , सेवक हूँ ,और मै ही हूँ सबकी धाता ||

अमित मिश्र
जवाहर नवोदय विद्यालय
नोन्ग्स्तोइन मेघालय

Like Comment 0
Views 86

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing