23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

नारी की फरियाद -- कविता

नारी की फरियाद—- निर्मला कपिला1

मैं पाना चाहती हूँ अपना इक घर
पाना चाहती हूं प्रेम का निर्झर
जहाँ समझी जाऊँ मैं इन्सान
जहाँ मेरी भी हो कोई पहचान
मगर मुझे मिलता है सिर्फ मकान
मिलती है् रिश्तों की दुकान
बाबुल के घर से पती कि चौखट तक
शंका मे पलती मेरी जान
कभी बाबुल् पर भार कहाऊँ
कभी पती की फटकार मैं खाऊँ
कोई जन्म से पहले मारे
को दहेज के लिये मारे
कभी तन्दूर में फेंकी जाऊँ
बलात्कार क दंश मैं खाऊँ
मेरी सहनशीलता का
अब और ना लो इम्तिहान
नही चाहिये दया किसी की
चाहिये अपना स्वाभिमान
बह ना जाऊँ अश्रूधारा मे
दे दो मुझ को भी मुस्कान
अब दे दो मेरा घर मुझ्को
नही चाहिये सिर्फ मकान्
निर्मला कपिला

1 Comment · 24 Views
निर्मला कपिला
निर्मला कपिला
71 Posts · 27.4k Views
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी],...
You may also like: