+++ नारी की गति +++

नारी की गति—-

समय की गति को अब
जान लीं हैं नारियाँ |
स्वीकार लीं हर चुनौती
कर ली हैं तैयारियाँ ||

निडर हो के छूना है अब
उन्हें आसमान को ||
वापस पाना है समाज में
अपने सम्मान को ||

समय के साथ मर्दों की
कल थी बड़ी मित्रता ||
वक्त को मोड़ लिया है
अब उनकी है पात्रता ||

घड़ी की रफ़्तार-सी
उनको रफ़्तार बढ़ानी है ||
जो खो गई पहचान
उसे अब वापस पानी है ||

लड़खड़ाते कदमों को
फिर से सम्भालना है ||
ज़मीं फूँक-फूँक के फिर
उनको कदम बढ़ाना है ||

उनकी विफलता को
सफलता में ढालना है ||
हम जो हाथ बढ़ाते हैं
उन्हें कश के थामना है ||

भागो, दौड़ो, पकड़ो अब
वक्त की रफ़्तार को ||
मिलेगी मंज़िल अवश्य,
जीत लोगी संसार को ||

घड़ी के साथ तुम पल-पल
कदम से कदम मिलाओ ||
सारी कुंठा, सारी संकीर्णता
अपने मन से दूर भगाओ ||

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
30. 01. 2017

Like Comment 0
Views 12

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share