Skip to content

नारी का उत्थान

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

दोहे

March 8, 2017

अन्तर्राष्ट्रीय महिलादिवस की हार्दिक बधाई

नारी के उत्थान में, है नारी का हाथ
देना होगा खुद उसे, नारी का ही साथ

अपनी ताकत को यहाँ , नारी बस पहचान
खुद पर कर विश्वास तू, यदि करना उत्थान

नारी है कोमल ह्रदय,कैसे बने कठोर
मगर समझ लेना नहीं , उसको तुम कमजोर

घर से अपने ही करो, नारी का उत्थान
बेटे बेटी को सदा, पालो एक समान

जंजीरें तो पाँव की, नारी अपनी तोड़
राह बना अपनी नई, नर की कर मत होड़

पूरा अपने लक्ष्य को, करो लगा जी जान
अपनी रक्षा का मगर , नारी रखना ध्यान

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
हूँ मै नारी/मंदीप
हूँ मै नारी, डरती हुई नारी, पल पल मरती हूँ नारी, बजारू नजरो से बचती हुई नारी। हूँ मै नारी.... बिलकती हुई नारी, खुद को... Read more
नारी का सम्मान
पेंडिंग हों जहँ रेप के, . केस करोड़ों यार ! तहँ रमेश महिला दिवस, लगता है बेकार !! कहने को महिला दिवस,. सभी मनाएं आज।... Read more
**दुख-सुख की सिर्फ एक ही साथी** नर नहीं है वो है सिर्फ नारी
** दुख सुख में जो साथ है देती और नहीं कोई, नारी है मुश्किल से जो जूझ है जाती और नहीं कोई, नारी है **... Read more
नारी
आज देश का बच्चा हमसे पुछे बारमंबार है। क्यो नारी पर ही समाज मे होते अतयाचार हैं।। जिस समाज का नारी देखो खुद करती निर्माण... Read more