May 8, 2018 · कविता
Reading time: 1 minute

*बेटी अपनी नायाब बनाओ*

बेटी अपनी नायाब बनाओ ।
फूल नहीं अंगार बनाओ ।।
देख के जिसको दुर्जनः काँपे ।
ऐसी दोधारी तलवार बनाओ ।।

हर मुश्किल से लड़ना सिखाओ ।
काँटों पर भी चलना सिखाओ ।।
काटने वाला खुद कट जाए ।
ऐसी तीखी कटार बनाओ ।।

मजबूत उसकी जड़ें बनाओ ।
जीने की नई राह दिखाओ ।।
छिन सके न हक कोई उसका ।
ऐसी तेज तरार बनाओ ।।

हक़ से जीना उसको सिखाओ ।
आत्मनिर्भर उसको बनाओ ।।
डराने वाला खुद डर जाए ।
ऐसी उसको दबंग बनाओ ।।

बेटी बेटे का भेद मिटाओ ।
बेटी का सम्मान बढ़ाओ ।।
हरा सके न जिसको कोई ।
ऐसी उसको योध्दा बनाओ ।।

5 Likes · 2 Comments · 605 Views
Copy link to share
Neelam Chaudhary
110 Posts · 77.2k Views
Follow 42 Followers
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी... View full profile
You may also like: