Dec 15, 2020 · कविता
Reading time: 1 minute

**नाम मिला जिसे कोरोना**

हाहाकार मचाया जग में, नाम मिला जिसे कोरोना।
महामारी जो बन कर आया ,विज्ञान को बना दिया बोना।हाहाकार मचाया जग में, नाम मिला जिसे कोरोना।।
(१)हड़कंप मचाया इसने ऐसा ,दुनिया सारी थर्राई।
मानव जीवन कैसे बचाएं, सोच सभी की घबराई।
लील गया कई जीवन अब तक, आगे जाने क्या होना।
हाहाकार मचाया जग में, नाम मिला जिसे कोरोना।।
(२) व्यवस्थाएं चौपट कर डाली, कारोबार थे बंद हुए।
क्षेत्र बचा ना कोई इससे,देवालय शिक्षालय भी बंद हुए।
चीन से चलकर सारे जहां का, रोया था कोना कोना।
हाहाकार मचाया जग में, नाम मिला जिसे कोरोना।।
(३) संदेश से अब भी आते, लौट के फिर यह आया है।
लॉकडाउन लगा मास्क लगाया शासन ने खूब समझाया है।
सटीक इलाज मिले अब तो ,अनुनय जीवन नहीं है खोना।
हाहाकार मचाया जग में, नाम मिला जिसे कोरोना।।
राजेश व्यास अनुनय
नगर बोड़ा तहसील नरसिंहगढ़ जिला राजगढ़ ब्यावरा मध्य प्रदेश

Votes received: 111
48 Likes · 147 Comments · 1316 Views
Copy link to share
#9 Trending Author
Rajesh vyas
499 Posts · 11.7k Views
Follow 48 Followers
रग रग में मानवता बहती। हरदम मुझसे कहती रहती। दे जाऊं कुछ और ,जमाने तुझको,... View full profile
You may also like: