.
Skip to content

नादानी

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 29, 2017

” नादानी ”
—————

याद है मुझे !
वो नादान……..
नटखट बचपन |
कितना आजाद था ?
कितना मगरूर था ?
ना कोई कर्तव्य !
ना कोई जिम्मेदारी !
वो मस्ती का सलीका !
वो जीने का तरीका !
नदी में तैरना !
पहाडो़ पर चढ़ना !
झरनों में नहाना !
पेड़ों पर चढ़ना !
अधिकतम खेलना
न्यूनतम पढ़ना ||
सदा रहता था……..
मस्तमौला !
हर्षित-पुलकित
ना कोई फिक्र…..
ना कोई चिंता !!
तभी तो याद आती है
नादानी मेरी |
—————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
चांद ईद  का बना दिल जिसे नादानी कर गया
उसका इश्क़ मेरा हाल रमदानी कर गया चांद ईद का बना दिल जिसे नादानी कर गया आसानी से ले लेने दी , उसे अपनी जगह... Read more
मुझे वो दिन बहुत याद आते है
Sonu Jain कविता Oct 30, 2017
वो बचपन के दिन ।। वो हँसना खिलखिलाना ।। वो खेल खिलौनो से खेलना ।। वो रोना फिर मनना ।। मुझे वो दिन बहुत याद... Read more
क्या हुआ।जो नादानी में हमसे मुँह मोड़ बैठे
बेहयाई की भी न थी ,वो हया सारी छोड़ बैठे बेफ़वाई की भी न थी,वो रिश्ते सारे तोड़ बैठे ********************************* रफ्ता -2 ही समझेंगे वो... Read more
वो लड़की याद आती है
सफर करते हुए नभ की,ये धरती याद आती है लुटेरोँ को अभी भी मेरी बस्ती याद आती है हमेँ मालूम है 'सागर' इसी को प्यार... Read more