Skip to content

नहीं हुआ स्पर्श धूप का

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गीत

March 30, 2017

गीत
नहीं हुआ स्पर्श धूप का ,
मेरे घर और आंगन में ।

किया न चुंबन रवि किरणों ने ,
झड़ती इन पंखुड़ियों का ।
अज़ब निराशा में है, जीवन,
नव-कोमल इन कलियों का ।
पत्ते नहीं खरकते हैं , अब
इस घर के वातायन में ।

कंटक भी अब त्याग दिए हैं ,
पूर्ण हताश़ा में , बबूल ने ।
नष्ट किया आनंद फूल का ,
किसी चूक ने, किसी भूल ने ।
कौन करे ? अब फल की आशा,
उजड़े-उजड़े-से ग़ुलश़न में ।

शेष नहीं अब कोई आशा ,
नव-तरुओं के हंसने की ।
चिंतित और दुखित है जंगल,
उसे फ़िक्र है कटने की ।
कौन रखेगा? प्रेम-पुष्प अब,
मानवता के दामन में ।

नहीं हुआ स्पर्श धूप का ,
मेरे घर और आंगन में ।
ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
प्रभु अनुपम सुमन खिला दो !
प्रभु अनुपम सुमन खिला दो ! मेरे उजड़े उपवन में प्रभु अनुपम सुमन खिला दो, मेरे सूने जीवन में आशा के दीप जला दो, इस... Read more
वो नव पाती
मृदुल कोमल सकुचाती सी वो इक नव पाती, कोपलों से झांकती, नव बसंत में वो लहलहाती, मंद बयार संग कभी वो झूमती मुस्कुराती, कभी सुनहले... Read more
नव वर्ष
सभी दोस्तों को नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएं.... ????? गाता, गुनगुनाता, मन को हर्षाता, नव वर्ष आता। ????? पत्तों पर सरसराता, ठंड से ठिठुराता,... Read more
नाम है शिक्षक हमारा (गीत)
Dr.Priya Sufi गीत Sep 6, 2016
ज्ञान दे कर कल सँवारे, अनुभवों की खान है। नाम है शिक्षक हमारा, राह की पहचान है। हल चलाया ज्ञान का जब, साज सुख अपने... Read more