.
Skip to content

नहीं जगाना चाह….

सतीश तिवारी 'सरस'

सतीश तिवारी 'सरस'

कुण्डलिया

June 26, 2017

अन्तर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस (26 जून) प्रसंग पर

(तीन कुण्डलिया छंद)

(1)
करता नाशी चित्त की,नशा सुनिश्चित मीत।
बीड़ी अरु सिगरेट से,कभी न करना प्रीत।।
कभी न करना प्रीत,और मत खाना गुटखा।
छूना नहीं शराब,न रखना जीवन भटका।।
कह सतीश कविराय, मरे बिनु जीवन मरता।
हों उसका कुल नाश,नशा जो हरदम करता।।
०००
(2)
पीना प्रिय! मत भूलकर,गाँजा-चरस व भंग।
जीवन में चाहो अगर,नित खुशियों के रंग।।
नित खुशियों के रंग,नशा पल में हर देता।
जीवन निज बर्बाद,क्षणिक में जो कर देता।।
कह सतीश कविराय,करे जो अंतर झीना।
गाँजा-चरस व भंग,भूलकर भी मत पीना।।
०००
(3)
नहीं जगाना ड्रग्स की,अपने मन में चाह।
वरना जीवन की स्वयं,भटकोगे तुम राह।।
भटकोगे तुम राह,अमन खो दोगे अपना।
होगा चकनाचूर,क्षणिक में उर का सपना।।
कह सतीश कविराय,अगर मंज़िल तक जाना।
अपने मन में चाह,ड्रग्स की नहीं जगाना।।
*सतीश तिवारी ‘सरस’,नरसिंहपुर (म.प्र.)

Author
Recommended Posts
जीवन एक संघर्ष
मुश्किलें तो आती है जीवन में, मगर रास्ते भी बन जाते हैं। डटकर सामना करते हैं जो मुश्किलों का, सच्चे योद्धा वही कहलाते हैं।। जीवन... Read more
कहीं तुम खूँ बहाना मत
(विधाता छंद) मापनी 1222 1222 1222 1222 पदांत- मत समांत- आना कभी टूटे हुए दरपन, से’ घर को तुम सजाना मत. कभी टूटे हुए तारों,... Read more
पावन प्रेम ...
प्रेम पाकीजा सा इस रिस्ते को सुनो बदनाम कभी मत करना, प्रीत की जीत जैसी उलझन में खुद को गुमनाम कभी मत करना। चंद ख्वाबो... Read more
नशा……………..४
नशा……………..४ नशा जवानी का अक्सर होश खो देता है अच्छे – बुरे मे फर्क कि समझ खो देता है भटक जाता इस उम्र में युवा... Read more