· Reading time: 1 minute

नसीहत

नसीहत (मुक्तक)
°°°°°°°°

जनता के कर्म से, नेता सुधरे।
माता के करम से, बेटा सुधरे।
माने जो बात; पिता की, ‘बेटी’
तभी हरेक घर की सुता सुधरे।
***********************

……✍️ पंकज कर्ण
………..कटिहार।।

4 Likes · 259 Views
Like
Author
"शिक्षक"... MA. (Hindi, Psychology & Education) B.Ed , LL.B (BHU),
You may also like:
Loading...