Aug 30, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

नसीब……………..

छोडो ये रूठने मनाने की गुस्ताखियां
नफरत की आग में कही खुशियो के पल जाया न हो !
जी भर के कर लो आज दिल की बाते
क्या पता आने वाले पल के नसीब में ये पल हो न हो !!

!
!
!
डी. के. निवातिया______@

2 Comments · 25 Views
Copy link to share
डी. के. निवातिया
235 Posts · 49.6k Views
Follow 12 Followers
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,... View full profile
You may also like: