नशा शराब या तुम्हारी आँखों में

नशा शराब या तुम्हारी आंखों में
**************
नशा केवल शराब में ही नहीं है
तुम्हारी आँखों में भी है
शराब पीने के लिए तो
महखाने जाने पड़ता है
तुम पिलाती हो तो पूरा
घर महखाना बन जाता है
तुम्हारी आंखे पैमाना
शराब पीकर तो शराबी
गलियों में गिरता पड़ता है
अपनी और अपनों की
आबरू खोता है और न ही
किसी का सहारा मिलता है
जो थामले
तुम्हारी मदभरी आंखों में
वो नशा है जो गिरते हुए
को भी अपनी बाँहों में थाम लें
आंखों ही आंखों में वो
पीकर मदहोश हो जाता है
बिना एनेस्थीसिया के ही
जो बेहोश हो जाता है
सुबह उठते ही बीमार से
पूर्णतः स्वस्थ हो जाता है
अब तूं ही बता नशा
शराब में ज्यादा है
या तुम्हारी आंखों में
नफ़ा तुम्हारी आंखों में
ज्यादा है या फिर
शराब की राहों में
जो आदमी की इज्जत को
घुमा दे चौराहों में
फिर आदमी फिरता है
क्यों दोराहों में
अब बता नशा
शराब में ज्यादा है
या तुम्हारी आंखों में ।।
?मधुप बैरागी

177 Views
मैं भूरचन्द जयपाल 13.7.2017 स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर...
You may also like: