.
Skip to content

नशा शराब या तुम्हारी आँखों में

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

January 3, 2017

नशा शराब या तुम्हारी आंखों में
**************
नशा केवल शराब में ही नहीं है
तुम्हारी आँखों में भी है
शराब पीने के लिए तो
महखाने जाने पड़ता है
तुम पिलाती हो तो पूरा
घर महखाना बन जाता है
तुम्हारी आंखे पैमाना
शराब पीकर तो शराबी
गलियों में गिरता पड़ता है
अपनी और अपनों की
आबरू खोता है और न ही
किसी का सहारा मिलता है
जो थामले
तुम्हारी मदभरी आंखों में
वो नशा है जो गिरते हुए
को भी अपनी बाँहों में थाम लें
आंखों ही आंखों में वो
पीकर मदहोश हो जाता है
बिना एनेस्थीसिया के ही
जो बेहोश हो जाता है
सुबह उठते ही बीमार से
पूर्णतः स्वस्थ हो जाता है
अब तूं ही बता नशा
शराब में ज्यादा है
या तुम्हारी आंखों में
नफ़ा तुम्हारी आंखों में
ज्यादा है या फिर
शराब की राहों में
जो आदमी की इज्जत को
घुमा दे चौराहों में
फिर आदमी फिरता है
क्यों दोराहों में
अब बता नशा
शराब में ज्यादा है
या तुम्हारी आंखों में ।।
?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
तेरी आँखों के इशारे
29.12.16 ***** प्रातः 10.45 आज एक छोटा सा प्रयास ग़ज़ल ******* प्रारम्भिक बोल *********** जानेमन तेरी आँखों के इशारे ही बहुत है हमें अब मय... Read more
**  तुम्हारी आँखों में   **
बहुत है तपिस सीने में बारिश है तुम्हारी आंखो में रंजोगम है हमारे सीने में प्यार है तुम्हारी आंखो में जलता है मेरा ये जिगर... Read more
नशा……………२
नशा……………२ नशा शराब का हो तो दिमाग के पट खोलता है दिल मे दबे राजो को बडी आसानी से खोलता है जुटा नही सकता जो... Read more
??सरकार तुम्हारी आँखों में??
सजा है जन्नत का दरबार तुम्हारी आँखों में। खोया हुआ हूँ मैं तो सरकार तुम्हारी आँखों में।। कोई मंदिर,मस्ज़िद,गिरजा,गुरुद्वारों में खोजे। मुझे हो गया कुदरते-दीदार... Read more