Apr 16, 2018 · गीत
Reading time: 1 minute

नशा मुक्ति गीत

तर्ज:- मिलो ना तुम तो हम घबराए मिलो तो आंख चुराएं हमें क्या हो गया है…….

नशा न करना मेरे भाई,
नशे में आग लगाई,
संभल जाओ मेरे भाई।
संभल जाओ मेरे भाई।
नशा पाप का सगा हैं भाई,

सच देता नहीं दिखाई,
संभल जाओ मेरे भाई।
संभल जाओ मेरे भाई।

कुछ ना मिलेगा तुमको,
पीकर शराब गुटका खाने से,
घर वाले भी तुमको,
रोक देंगे से में घर आने से,
कहीं सड़क पर सोना होगा तुमको बिना चटाई संभल जाओ मेरे भाई,
संभल जाओ मेरे भाई,नशा न करना…………

हाथ में बोतल लेकर,
चलते हो नागिन जैसी चाल हैं,
कपड़े फटे हैं इनके,
बिखरे हुए से देखो बाल है ,
कोई ना अब पहचाने तुमको हालत कैसे बनाई संभल जाओ मेरे भाई,
संभल जाओ मेरे भाई,नशा न करना…………

काम धाम कुछ कर लो,
कैसे चलेगा घर महंगाई में,
बच्चे क्या सोएंगे भूखे,
अब किट-किट और लड़ाई में
बच्चे हैं बुखार में तपते,
तुम लाते नहीं दवाई।
संभल जाओ मेरे भाई।
संभल जाओ मेरे भाई ।नशा न करना………..

स्वरचित गीत
तरुण सिंह पवार

1 Like · 1299 Views
Copy link to share
तरुण सिंह पवार
48 Posts · 3.8k Views
Follow 3 Followers
साहित्य समाज का दर्पण होता है इसी दर्पण में भिन्न भिन्न प्रतिबिम्ब दिखाई देते है... View full profile
You may also like: