नव संवत्सर

?नव संवत्सर?

श्रृंगार सलोना
धरा धरा ने
क्या विस्मय है|
ऋतु नव अभिनव
शस्य पात नव
नव किसलय है|
चंचलता में
लिपटा यह मन
करे अभिनय है|
नव वेला के
सुअवसर पर
खिला हृदय है
मंगलमय हो
नव संवत्सर
ईश!,विनय है|
✍हेमा तिवारी भट्ट✍
आप सभी को नव संवत्सर 2074 की हार्दिक शुभकामनाएँ??????

Like Comment 0
Views 96

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share