नव वर्ष

(1) ?????
नयी साल की पहली किरणें
मन को है हर्षाती…
सर्द हवा की भीनी खुश्बू
मन में आस जगाती…
????

(2) ?????
आ गया नव वर्ष
अपनी बाहों को खोलें…….
उमड़ती नई उम्मीदें
रूबरू आँखें बिछाये…….
????—लक्ष्मी सिंह ??

159 Views
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is...
You may also like: