.
Skip to content

नव वर्ष कि पहली किरण…

विनोद सिन्हा

विनोद सिन्हा "सुदामा"

कविता

January 1, 2017

नव वर्ष की पहली किरण…..।

बीत गया पुराना साल देखो.।
लिऐ उम्मीदों का कई कोरा कफन.।
नये उम्मीदों को सच करने को .।
नये साल मे छू ले अपनी धरा ऊँचा गगन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण….

भूलें सभी दुखों को हम सब जन..,
पहले स्वागत के नए साल की..,
भगा मन के अंधेरों को.।
कर दें अपने सारे दुखों को दफन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण..।

ना कुछ हारने का फिक्र हो.।
ना जितने का हो कभी घमंड.।
मार कर खुद की इच्छा को.।
जीतें हरदम दूसरों का मन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण.।

ना कोई हिंसा ना कोई दंगा.।
ना ही कहीं हो कोई रूदन.।
महके मन आंगन सबका.।
और महके अपना ये चमन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण….।

ना पाप का ना द्वेष का.।
ना कलह का ना क्लेश का
ना जात का ना धर्म का..
कहीं भी लगा रहे बंधन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण..।

ना किसी माँ से उसका बेटा रूठे.।
ना किसी पिता का देखा सपना टूटे.।
ना कहीं कोई बेटी शर्मसार हो.।
ना कोई अबला पर अत्याचार हो.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण..

ना घर जले ना फसलें जले.।
हर के घर मे इक सपना पले.।
ना कहीं अब कोई मातमं हो .।
ना कहीं कोई चीख पूकार हो.।
उल्लास ही उल्लास हो हर तरफ.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण….

खुशियाँ ही खुशियाँ हो जग मे.।
महके हर पल सबका जीवन.।
ना कोई किसी का दुश्मन हो.।
ना हो किसी की किसी से दुश्मनी.।
हर कोई रहे खुशी खुशी हरदम .।
शांति का दूत बन आये .।
साल का पहला पवन.।

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण….

ऐसी हो नव वर्ष की पहली किरण….

विनोद सिन्हा-सुदामा

Author
विनोद सिन्हा
मैं गया (बिहार) का निवासी हूँ । रसायन शास्त्र से मैने स्नातक किया है.। बहुरंगी जिन्दगी के कुछ रंगों को समेटकर टूटे-फूटे शब्दों में सहेजता हूँ वही लिखता हूँ। मै कविता/ग़ज़ल/शेर/आदि विधाओं में लिखता हूँ ।
Recommended Posts
नये साल की पहली सुबह
????? नये साल की पहली सुबह की सर्दी, और एक कप चाय की गरमा-गरम चुस्की। ठंढ से ठिठुरती, रजाई में सिकुरती। रिश्तों की आहट, कुछ... Read more
नव वर्ष मुबारक
ऊषा की पहली किरण मुस्कराई आज फिर एक नया सबेरा लाई कुछ नई सौगाते और सपने साथ लाई कण कण मे उजाला भरती हुई आई... Read more
नव वर्ष
(1) ????? नयी साल की पहली किरणें मन को है हर्षाती... सर्द हवा की भीनी खुश्बू मन में आस जगाती... ???? (2) ????? आ गया... Read more
भारत का नव वर्ष
चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा,करे सतत उत्कर्ष ! आता है इस रोज ही,भारत का नव वर्ष !! नये वर्ष का देश में,करें खूब सत्कार ! दरवाजे... Read more