नवोदय और नवोदियन

नवोदय विद्यालय है भारत की शान
मेरा नवोदय विद्यालय है बहुत महान
राजीव गांधी ने देखा था एक सपना
हर वर्ग क्षेत्र स्तर का बच्चा है अपना
सर्वांगीण विकास करना है जिनका
नव उदय नवोदय से पूरा होगा सपना
नवोदय विद्यालय योजना क्रियान्वयन
मेरा नवोदय विद्यालय है बहुत महान
पंचम कक्षा का था मैं नन्हा विद्यार्थी
परीक्षा पासकर बना नवोदय शिक्षार्थी
प्रथम कदम प्रवेश कर चरम उत्साह
हर्षित पुल्कित गौरवान्वित था अथाह
अभिभावक विदा कर मैं आया नादान
अकेला हुआ फिर हुआ हैरान परेशान
सहपाठियों से हुई फिर जान पहचान
गले लगाकर किया हमनें मान सम्मान
शाम ढली रात हुई मन विचलित अपार
तीव्र धड़कन आँखों में थे आँसू बेशुमार
माँ बाप घरवाले संगी साथी आए याद
रोते रातें संभलते संभालते घबराहट में
कटी मुश्किल से प्रथम तारों भरी रात
साथ खाते पीते सोते पढते खेलते छेड़ते
सहपाठी से बन गए थे घनिष्ठ हमजोली
परस्पर भाई बहन मित्र संगी रिश्ते नाती
शिक्षक थे अभिभावक मात पिता साईं
शिक्षकों को हम से मान सम्मान मिला
बदले में हमको खूब प्यार दुलार मिला
कतार में जाना अनुशासन में सदा रहना
लड़ना झगड़ना रूठना मनाना चिढाना
उसी पल जैसे थे वैसे ही हो खाना पीना
मस्ती करना मौजें करना पढना लिखना
शरारतें करना मूर्ख बनाना और बन जाना
सच्ची बहुत अच्छा लगता था बाल याराना
बीच अधर में नहाते वक्त पानी चले जाना
आँखों में साबुन लिए भागते ठोकर खाना
खेल खेल मे गुत्थमगुत्था और भिड़ जाना
हाऊसों में बंटकर प्रतियोगी बन भिड़ना
खेलकूद हो या सांस्कृतिक वाद विवाद
अच्छे से तैयारी करते होता खूब संवाद
महीने में वो फिर एक निश्चित दिन आता
माता पिता भाई बहन इंतजार बेसब्री रहता
घर से आई खास मिठाई मिल बांट खाते
कई बार ट्रंकों के ताले और कुंडे टूट जाते
नालो में पड़ी चाबियां यूंही धरी रह जाती
शरारती चालूपंथी तत्व लुत्फ मौज उड़ाते
दीवाली पर मिले चार मूर्गाछापी बंब चलाते
जन्माष्टमी पर वर्ती व्रत चरती मौज उडा़ते
रंगमंच पर गीत संगीत नृत्य का लुत्फ उठाते
शनिवार रविवार की फिल्म का आनंद लेते
बुधवार शुक्रवार चित्रहार चित्रमाला देखते
साल में रक्षाबंधन का दिन मनहूस आता
जिस पर नजरें होती उसी से राखी बंधती
करी कराई मेहनत पर यूं मिट्टी पड़ जाती
लड़के लड़कियों से राखी बंधवाने से बचते
आपस में भैया दीदी ट्रेंड मन को अखरते
होली पर मिले सौ ग्राम रंग में खूब रंगते
काला तेल कीचड़ से सनै चेहरे बिगड़ते
पढते बढते एक दिन जुदाई का भी आया
कुछ साथी दूसरे प्रदेश गए और कुछ आए
उस दिन भी लिपट कर गले मिल खूब रोए
समय बीता बालक से हम किशोर बन गए
दाढी मूँछ शारीरिक मानसिक परिवर्तन हुए
विपरीत लिंग आकर्षक खेली आँख मिचौनी
पर कभी नहीं मिल पाए हम दिल के जानी
यारो के हम यार बने और दुश्मन के दुश्मन
उत्तम कद काठी सुन्दर छैल छबीले जवान
लड़कियाँ सुन्दर सुशील शालीन संस्कारी
उच्चकोटि की विचारधारा और शिष्टाचारी
समय का पहिया चला पता न चल पाया
बीज जो बोया था अंकुरित हो पेड़ बन गया
नवोदय कहता हो तुम करो अब अगली तैयारी
कुछ बन कर आओ यहाँ मुझे इंतजार तुम्हारी
आ गई थीं यारो यहां नवोदय की अंतिम बेला
यारो रो कर बिछड़ रहा था गुरु का हर चेला
हम सभी बेसुध बेजान मुर्छावस्था में मुर्छित
काटो तो खून नहीं जैसी थी बन गई स्थिति
रो रो कर गले लगाकर हमने ले ली विदाई
कुछ बनकर ही मिलेंगे थी संग कसमें खाई
आज हमारा प्रतिनिधित्व हर स्थान.पर यारो
देश विदेश शिक्षा रक्षा स्वास्थ्य हर जगह यारों
हमें प्रफुल्लित देख नवोदय फूला न समाता
हम हैं सदैव नवोदय ऋणी न ऋण चुकाता
जय नवोदय जय नवोदियन

सुखविंद्र सिंह मनसीरत

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share