गीत · Reading time: 1 minute

नववर्ष शुभ हो

आत्मबल उत्साह में, नित नए प्रतिमान देखे
हृदय का प्रमाद भी, नित नए दिनमान देखे
लक्ष्य की प्रतिपूर्ति हो, नयन भी सम्मान देखे
‘धवल’ अभिलाषा यही, नववर्ष गुणगान देखे।।

आपको एवं आपके परिवार को भी सुख, शान्ति एवम समृध्दि की मंगलमयी कामनाओं के साथ नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !!

🙏प्रदीप तिवारी एवं परिवार 🙏🏻

42 Views
Like
Author
मैं, प्रदीप तिवारी, कविता, ग़ज़ल, कहानी, गीत लिखता हूँ. मेरी तीन पुस्तकें "चल हंसा वाही देस " अनामिका प्रकाशन, इलाहाबाद और "अगनित मोती" शिवांक प्रकाशन, दरियागंज, नई दिल्ली तथा अभी…
You may also like:
Loading...