Apr 13, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

नववर्ष उल्लास

नववर्ष मंगल दिवस आज फिर आया
चैत्र शुक्ल पक्ष का मंगल समय फिर आया
हो हर घर में खुशी हर जगह हो मंगल
मनोकामना ये करने का फिर से समय आया
है हमारा नव वर्ष आया।।

यह केवल नव वर्ष नहीं ये तो है
सृष्टि की उत्पति का शुभ समय
हुआ था मत्स्य अवतार भी इसी दिन
है सतयुग के आरंभ का शुभ समय
है ये हमारे नव वर्ष का समय।।

आओ मिलकर नववर्ष मनाए
खुशियों के दिए हम जलाएं
आंगन में अपने रंगोली बनाएं
जीवन में अपने नए सपने सजायें
ऐसे हम अपना नववर्ष मनाएं।।

चारों ओर दिख रही हरियाली
आई फसलों को काटने की बारी
नववर्ष की पावन बेला है आई
लेकर साथ में उम्मीदें ढेर सारी
रहे नववर्ष का जश्न जारी।।

संकट के क्षण हो जाए दूर
खुशहाली हो चारों ओर
मनोकामना है ये मेरी रोज़
नववर्ष में आए ऐसी भोर
मनाएं आज हमारा नववर्ष
दुनिया का हर एक छोर।।

6 Likes · 1 Comment · 69 Views
#1 Trending Author
Surender Sharma
Surender Sharma
122 Posts · 9.1k Views
Follow 48 Followers
You may also like: