Skip to content

नववधु

सोनू हंस

सोनू हंस

हाइकु

February 11, 2017

#हाइकु#

पल में रोए
उजाड़ सी होकर
वो नववधु

महकती थी
बाबुल के आँगन
विदा हो रही

माँ की लाड़ली
आँगन की चिड़िया
है उड़ चली

बापू की परी
चुनरिया को ओढे़
पीहर छोडे़

जग की रीत
सजन घर जाना
निभा री सखी
सोनू हंस##

Author
Recommended Posts
बेटी
हाइकु 1 बेटा या बेटी ना करो अपमान एक समान 2 बेटी भी होती परिवार की जान नहीं सामान 3 एक नहीं दो आँगन है... Read more
तुलसी
भीनी सी महका करती है तुलसी घर के आँगन की शुभ कर सुख ही सुख भरती है तुलसी घर के आँगन की मिले शांति मन... Read more
हाइकु वाटिका की समीक्षा
हाइकु वाटिका [साझा हाइकु संग्रह] संपादक - प्रदीप कुमार दाश "दीपक" प्रकाशक :    माण्डवी प्रकाशन, गाजियावाद (उ.प्र.) प्रकाशन वर्ष : फरवरी 2004      मूल्य : 100/----... Read more
चंद हाइकु
चंद हाइकु *अनिल शूर आज़ाद गांधी कहते सच अहिंसा श्रम मानव धर्म। बीता समय कल की हक़ीकत आज सपना। लघु पत्रिका अभाव ही अभाव पत्रिका... Read more