.
Skip to content

नवरात्रि के आगमन पर

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

March 28, 2017

आ रही हैं
कल से मैया ।
प्यारी मैया ,
सबकी मैया ।
कल से
होंगे रतजगे ।
भगतें होंगी ,
भजन भी होंगे ।
दारू बाले
दारू छोड़ेंगे
नवदिन तक ।
मांसाहारी
हो जाएंगे
शाकाहारी ,
बिल्कुल-
शुद्ध पवित्र ।
लहसुन, प्याज
छोड़ देंगे ये
लेकिन केवल
नवदिनों तक ।
लबरे भी
संकल्प ले रहे
झूठ नहीं
बोलेंगे नवदिन ।
संकल्पित हो
गये मनचले
बुरी नज़र
न डालेंगे हम ।
नवदिन बस
कट जाएं सुख से
फिर दुश्मन
को हम देखेंगे ।
मैया करना
दया तू ऐंसी
शत्रु हो बर्बाद हमारा ।
प्यारी मैया,
सच्ची मैया ,
तो कर दूंगा मैं भंडारा ।
ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि एवं शिक्षक ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
मात नमामि रेवा मैया, जग जननी कहलावत है
मात नमामि रेवा मैया, जग जननी कहलावत है| माँ के चरणो मे हम बालक, नित नित शीश झुकावत है अमरकंट से निकले मैया, सागर जान... Read more
नन्हें मुन्ने का चिड़िया से वार्तालाप :)
चिड़िया तुम कल आना माँ खिलाती है मुझे बाक़ी के क़िस्से कल सुनाना माँ सुलाती है मुझे देखो मैं बात करूँगा तो माँ डाँटेगी मुझे... Read more
मैया की ममता
मैया तेरा नटखट लाला -- किशन द्वारिकाधीश बना कल तक जिसने मटकी फोडी आज वही जगदीश बना ।। कैसा माखन दिया , यशोदा! राजबुद्धि उसको... Read more
देवीगीत
आजा जा माँ तुझे बालक पुकारे, बालक पुकारे मैया बालक पुकारे...... हम अग्यानी मैया तेरे ही सहारे, तेरे ही सहारे माँ बालक पुकारे...... आ जा... Read more