नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति

नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति

शैलपुत्री
शिखर वासिनी, त्रिशूल धारिणी
वृषभ वाहिनी, शिव अर्धांगिनी
सर्व प्रथम पूजा प्रतिस्ठायीनी
शैलपुत्री यशस्विनम नमो नम:!!

ब्रह्मचारिणी
तपो आचरण, कमण्डलु धारण
सराहना देवता, ऋषि सिद्धगण
दुर्गा द्वितीय रूप ब्रह्मचारण
ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा नमो नमः !!

चंद्रघंटा
अर्ध चंद्र, घंटा, रूप स्वामिनी
कुंदन रूप, स्वर्ण रंग धारिणी
दशम हस्त शस्त्र सुशोभिणी
तृतीय रूप चंद्रघण्टेति नमो नमः !!

कुष्मांडा
अष्टभुजा धारे, अंग बल दल
कमण्डलु, धनुष-बाण, कमल
एक क्षत्र सूर्यलोक वासिनी
कुष्मांडा शुभदास्तु नमो नमः !!

स्कंदमाता
स्कंदकुमार कार्तिकेय माता
कमल आसन पर विराजा
ऊपरी भुजा में वरमुद्रा धाता
स्कन्द माता यशस्विनी नमो नमः !!

कात्यायनी
ब्रजमंडल की अधिष्टदात्री
कात्य गोत्र, विश्व प्रसिद्धि
षष्ट दिवस में पूजनीयानि
कात्यायनी शुभो: नमो नमः !!

कालरात्रि
अंधकारमय स्थिति विनाशिनी
फैले केश अभयमुद्रा में दाहिनी
श्वांस में अग्नि त्रिनेत्र धारिणी
कालरात्रिर्भयंकरी नमो नमः !!

महागौरी
गौर वर्ण, श्वेताम्बरधरा
चार भुजा, वाहन वृषभा
डमरूधारी शिवअर्धांग्नि
महागौरी शुभ: नमो नमः !!

सिद्धिदात्री
शिवर्धनारीश्वर अष्टसिद्धिदात्री,
लौकिक, पारलौकिक, कामिनी
नवम दिवस पूजनीय महामिनी
सदा भूयात सिद्धिदा नमो नमः !!!

!
!
!
डी के निवातिया !!

Like Comment 0
Views 339

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing