नवगीत

लोकतंत्र का रामायण
*******************

लोकतंत्र का रामायण है
कभी न बाँचा
सत्ता का उत्कर्ष

शिव आदर्श-उदाहरणों के
बदल गये हैं अर्थ
शब्द-शक्ति भी नाटकीय है
भाव हुये असमर्थ
तुलनाओं का गुणनखंड भी
कभी न जाँचा
जातिवाद-संघर्ष

राजनीति की नीति भयंकर
समझ न पाये वोट
विज्ञापन का लाभ उठाकर
पैठ बनाये नोट
दुविधाओं का गहन पैंतरा
आँचा-पाँचा
बदल गया निष्कर्ष

मापदण्ड की इन गलियों का
भार उठाता आम
एक शपथ की गीता पढ़कर
पनप रहा है पाप
लोक-काव्य कुछ समझ न पाया
निर्गुट ढाँचा
जनता का अवमर्ष

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’
मेरठ

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119
(Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing