.
Skip to content

नवगीत।रातों मन के अंधेरों मे तस्वीरें चलती रहती है ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रकमिश सुल्तानपुरी

गीत

September 12, 2017

नवगीत
रातों मन के
अंधेरों मे
तस्वीरें चलती रहती है ,,-2

शामों से ख़ामोशी ठहरी रहती है मेरे घर ।
फ़ैली रहती है रातों भर तन्हाई की चादर ।
सुबह सबेरे
मन को घेरे
परछायीं बढ़ती रहती है ।
रातों मन के अंधेरों में,,,,,,,,,,

सन्देहों की जाल बिछाती जाती याद सलोनी ।
सोने देती मुझको कैसे स्वप्नों की अनहोनी ।

चक्षु झीलों से
निकल निकल
दुख सरिता बहती रहती है ।
रातों मन के अंधेरों मे ,,,,,,,,,,,,,

धूमिल आहट को धोखे मे रखतीं रातें काली ।
सुबह सजाये सूरज लाता भावुकता की थाली ।
मन के बागों
मे ख़ुशबू भर
पुरवाई बहती रहती है ।
रातों मन के अंधेरों मे ,,,,,,,,,,,,
राम केश मिश्र

Author
रकमिश सुल्तानपुरी
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं ।... Read more
Recommended Posts
दिल की दीवार पे कुछ तस्वीरें रहती हैं...................
दिल की दीवार पे कुछ तस्वीरें रहती हैं साथ साथ सब्त उस पे तहरीरें रहती हैं दूर अभी मंज़िल तक़ाज़ा तेज़ चलने का दौड़ूँ कैसे... Read more
मुक्तक
मेरी शाम जब तेरा इंतजार करती है! तेरी याद को दिल में बेशुमार करती है! खुली हुयी सी रहती हैं हसरतों की बाँहें, ख्वाहिशों को... Read more
कविता
तस्वीरें... गहरे असमंजस से भरा चेहरा अचानक मुस्कुरा उठता है। स्माइल प्लीज.. सुनकर कुछ साफ दिल लोगों को छोड़ हर चेहरा हरा भरा हो उठता... Read more
नवगीत।अफवाहें उड़ती रहतीं है।।
नवगीत।अफवाहें उड़ती रहती है । इस जीवन में सत्कर्मो का सदा करो निर्माण । सतपथ पर चलते रहना है बिना दिये प्रमाण ।। कठिन राह... Read more