तेवरी · Reading time: 1 minute

नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी

कोई तो किस्सा पावन हो, वृन्दावन हो
अब चैन मिले मन को कुछ तो |

तहखानों बीच न जीवन हो, घर-आँगन हो
सुख के पायें साधन कुछ तो |

अपमान नहीं अब वन्दन हो, अभिनन्दन हो
ले आ रोली-चन्दन कुछ तो |

वो चाहे हर सू क्रन्दन हो, घायल मन हो
कम करता दुष्ट हनन कुछ तो |

अब अग्नि-कथा का वाचन हो, अरिमर्दन हो
स्वर में ला तीखापन कुछ तो |
+रमेशराज

48 Views
Like
You may also like:
Loading...