.
Skip to content

|नये शिल्प में रमेशराज की तेवरी

कवि रमेशराज

कवि रमेशराज

तेवरी

June 3, 2017

हम चोर लुटेरों ने घेरे
हर सू है चीख-पुकार | इस बार ||

हम घने अंधेरों ने घेरे
दिखती न रौशनी यार | इस बार ||

हम सेठ-कुबेरों ने घेरे
सब शोषण करें अपार | इस बार ||

जल-बीच मछेरों ने घेरे
हम बने मीन लाचार | इस बार ||

सत्ता के घेरों ने घेरे
हर ओर दिखें अंगार | इस बार ||
+रमेशराज

Author
कवि रमेशराज
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [... Read more
Recommended Posts
कलाकार हम जो कलाकार तुम भी
गुनहगार हम जो ,शर्मशार तुम भी शर्मशार हम जो,गुनहगार तुम भी ************************** तेरी मेरी कहानी भी इक है अदाकार हम जो कलाकार तुम भी ***************************... Read more
हर दफा वो ऊँगली हम पर ही उठाता कियुं है
बिठा के पलकों पर नजरों से गिराता क्यूं है दाव ये सारे वो हम पर ही आजमाता क्यूं है ******************************** क्या हुआ जो एक बार... Read more
मतदान
कुछ तो खासियत है, इस प्रजातंत्र में, कुछ तो बात है, इस करामाती मंत्र में ! वोट देता हूँ फकीरों को, कमबख्त शहंशाह बन जाते... Read more
पहली पहली बार
यादों में वो लम्हे बसे हों पहली पहली बार राहों में हम तुम मिलें हों पहली पहली बार पिघल के मेरी बाहों में समाये तुम... Read more