May 2, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

नये दूल्हे को नसीहत

उसकी हंसी तो
पहले ही चली गई
अब तेरी बारी है
सगाई तो हो गई अब
शादी की बारी है।।

अभी इतने हंसते
रहते हो जो तुम
कुछ दिनों की बात है
जब ये हंसी भी
हो जायेगी गुम।।

आज मिलने को
इतना तरसते हो
बाद में बोलोगे कि
मुझ पर इतना
क्यों बरसते हो।।

मिलने को कहती है
उसे अभी जो चाहत
बाद में बदल जायेगी और
जब वो मायके जायेगी
तभी मिलेगी राहत।।

अभी प्यारी लगती है
जो उसकी बातें तुम्हें
वक्त वो भी जल्द आएगा
जब बहुत चुभेगी
उसकी ये बातें तुम्हे।।

अभी उसके लिए घंटों
इंतजार भी खुशी देता है
आदत डाल दो तुम भी अब
शादीशुदा जीवन ऐसे
हजारों इम्तिहान लेता है।।

अभी तेरे बालों को
प्यार से सहलाती है जो
वो शादी के बाद बदल जायेगी
हाथ फेरेगी बालों पर तो
तुझे गंजा कर जायेगी।।

12 Likes · 8 Comments · 84 Views
#1 Trending Author
Surender Sharma
Surender Sharma
122 Posts · 9.2k Views
Follow 48 Followers
You may also like: