" ---------------------------------- ------ नयना लड़े पड़े हैं " !!

रूप रंग की छांव घनेरी , नख़रे नाज़ बड़े हैं !
हम तो अपने आप को भूले , नयना लड़े पड़े हैं !!

पावस की बूंदों ने छूक़र , तन मन लहराया है !
झलक तुम्हारे पाने में यों , छाते कई उड़े हैं !!

इतराये फूलोँ ने तेरी , जमकर की अगवानी !
आज यहां गुलज़ार को देखो , कैसे होश उड़े हैं !!

दिल के राज़ बड़े गहरे हैं , कब आंखों से छलके !
मौन प्रतीक्षा में छुपकर , हम तो यहां खड़े हैं !!

मुस्कानों के तीर चलाकर , हलचल पैदा कर दी !
बेबस होकर सरे राह यों , कई शिकार पड़े हैं !!

आज अदा में दिखता है कहीं , छुपा हुआ ईशारा !
उम्मीदों की डोर को बांधे , हम तो यहीं अड़े हैं !!

रची बसी होठों पर साज़िश , अँखियाँ करे शरारत !
चुनरी ने ले ली अँगड़ाई , हम मदहोश पड़े हैं !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 235

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share