मुक्तक · Reading time: 1 minute

#रुबाइयाँ

दृष्टिकोण जैसा होता है , वैसे मंज़र दिखते हैं।
लेखक को कलम दिखाई दे , रिपु को खंज़र दिखते हैं।।
अपनी रुचि की बातें करते , रुचि-रुचि सम मिल जाती है;
बिन रुचि के सब दुश्मन जैसे , खग को पंजर दिखते हैं।।

औरों की फ़ितरत नीयत पर , रहना दूर निराशा से।
खुद बदलेंगे देख तुझे ख़ुश , देखो तुम प्रत्याशा से।।
सही समय पर उचित दिशा में , चलना सबको आएगा;
संसार चले लिए हौसला , अविरल गति इस आशा से।।

समझाओ तुम एक उसी को , जिसे समझ में आता है।
भैंस समुख बीन बजाने से , मानव समय गँवाता है।।
सही जगह पर नेक कर्म में , उर्जा का उपयोग करो;
तरु को सींचा जाएगा तो , इकदिन फल मिल पाता है।।

#आर.एस.’प्रीतम’
(C)सर्वाधिकार सुरक्षित रुबाइयाँ

61 Views
Like
Author
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव जमालपुर, तहसील बवानीखेड़ा,ज़िला-भिवानी,राज्य- हरियाणा। पिता का नाम - श्री रामकुमार माता का नाम - श्री…
You may also like:
Loading...