नमस्कार मै हिंदी हूँ

नमस्कार
मै हिंदी हूँ
मेरा दिवस के रूप में उत्सव मनाकर सम्मान देने के लिये आपकी आभारी हूँ ??
वैसे मुझे किसी दिवस की आवश्यकता नही
यदि वास्तविक रूप में
मुझे सम्मान देना चाहते हो
तो मुझे
ह्रदय से अपनाकर
अपनी वाणी में
समाहित कर
सदैव के लिए
अपने कंठ और जिह्वा
को समर्पित कर दो
मै सदैव आपकी
भाषा बनकर
आपके कार्य का
भाग बनाकर रहना चाहती हूँ
यही मेरा पारितोषिक होगा
और यही मेरी अभिलाषा का
पूर्ण होना।

आपकी वाणी में मधुरता के रस बिखेरने की अभिलाषी आपकी प्रिय हिंदी ।
???????
मेरे लिये बस इतना

2 Likes · 2 Comments · 336 Views
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ ,...
You may also like: