नमन है भारत के वीरों को शेरो की सन्‍तानो को

नमन है भारत के वीरों काे शेरो की सन्‍तानों को ,
जिन वीरो के नाम से ही दुश्‍मन यु थर्राता है ,
रहते है बडी मुश्‍किलो में सीमा पर तैनात यह ,
देश में जब हो दिवाली वो लहु की होली खेलते है ,
न दिन को उनको चैन है न रातों को आराम है ,
सो सके चैन की नींद देश्‍ावासी हर समय यह चौकस रहते है ,
वो रहते है मिलजुल ऐसे जैसे हो एक मॉ की सन्‍ताने ,
भेदभाव मिटाकर कहते हिन्‍दु , मुस्‍िलम ,सिख्‍ा ईसाई सब एक ईश्‍वर की संतान है ,
वो हमको यह समझाने मिलजुल सभी रहे हरदम यह रहबर का पैगाम है ,
रहबर का पैगाम यह कहता न लडो यहा पर भुख्‍ण्‍ड की खातिर ,
किसी की धरती है न किसी का यहा आसमान है ,
दुविधाओ से न घबराए उन सैनिको को सलाम है ,
इन साहसी सैनिको की बदौलत हिन्‍दुस्‍तान की अान बान और शान है ,
कहता यह हाथ जोडकर गहलोत ,
भले बनाओ बच्‍चो को डाॅक्‍टर, इंजीिनयर लेकिन बस यह ध्‍यान रहे,
कभी भी भुल से भी यह न भूले सैनिक हिन्‍दुस्‍तान की अान बान और शान है ,
भरत गहलोत
जालाेर राजस्‍थान
सम्‍पर्क 7742016184

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 140

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share