Mar 19, 2017 · कहानी
Reading time: 1 minute

नमन माता पिता को

नमन माता पिता को.
??????????

नमन जो हम करे उनको तो जीवन पार लग जाये.
नमन जो हम करे उनको तो जीवन पार लग जाये.

सुनो माँ बाप से बड़ कर कोई दौलत नही होती.
बिना आशीष के हम को कोई शौहरत नही मिलती.
रहे जो हाथ सिर पर तो ये नैय्या पार लग जाये
नमन जो हम करे उनको…..

हमारी हर खुशी उनसे ,उन्हीं से घर में रौनक है.
नही उनको भुलाना तुम ये खुशिया रूठ ना जाये..
नमन जो हम करे उनको ….
तो जीवन पार लग जाये.

सिखाया पाठ जीवन का सम्भल कर राह पर पर चलना.
यही बस डर सताता है कही ठोकर न लग जाये.
नमन जो हम करे उनको तो जीवन पार लग जाये.

संगीता शर्मा
18/3/2017

181 Views
Copy link to share
सगीता शर्मा
20 Posts · 1.9k Views
Follow 2 Followers
परिचय . संगीता शर्मा. आगरा . रूचि. लेखन. लघु कथा ,कहानी,कविता,गीत,गजल,मुक्तक,छंद,.आदि. सम्मान . मुक्तर मणि,सतकवीर... View full profile
You may also like: