नमन बेटियों

★★★
तुम सजाओ धरा ये गगन बेटियों।
आज जीवन बनाओ चमन बेटियों।।
★★★
नाज इतना करें आज आवाम भी।
सब करें जोड़कर कर-नमन बेटियों।।
★★★
राह कोई चलो ध्यान हो हर कदम।
पग धरो, तो जहाँ हो अमन बेटियों।।
★★★
लोक तीनों उजाला रहे कर्म का।
कर्म की वो बनो तुम किरण बेटियों।।
★★★
मान-सम्मान जग में सभी का मिले।
रूप ,माता, बहन, अवतरन बेटियों।।
★★★
जुल्म सहना नहीं अब कभी तुम यहाँ।
जुल्म- दानव करो, तुम दलन बेटियों।।
★★★
भूल से भी न हो कर्म ऐसा कभी।
सर झुके या बहे यह नयन बेटियों।।
★★★
गीत लिखती रहे हर कलम शान पे।
फक्र करता रहे ये वतन बेटियों।।
★★★
दिल दुआएँ करें हाथ आशीष दें।
यूँ बसो तुम सदा सब जहन बेटियों।।
★★★
दो दुआ इस ग़ज़ल को पढ़ो तुम अगर।
हर जहाँ में करो तुम गमन बेटियों।।
★★★
साथ मिलके कहो #जय सभी साथ में।
हर खुशी का तुम्हीं आगमन बेटियों।।

संतोष बरमैया #जय

Like Comment 0
Views 21

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing