कविता · Reading time: 1 minute

नमन करूँ महावीर का

नमन करूँ महावीर का

आत्मा को न पहचानें तुम,
खुद को भी न जानें तुम।
गलती तुम्हारी यही है मानव,
सत्य ज्ञान को न पाएँ तुम।

कर कर्मठता स्वीकार तुम,
रखें समर्पण भाव तुम।
लो विवेक से काम मानव,
करो ध्यान गुरु का तुम।

गरीबों का मान बढ़ा तुम,
मन में विश्वास जगा तुम।
मत छीन अधर मुस्कान मानव,
जीने का ढंग बता दे तुम।

अंधेरों को मिटा दो तुम,
प्रेम का दीपक जला दो तुम।
नमन करूँ महावीर का मानव,
आओ मिलकर गुणगान करें हम।
~~~~◆◆◆◆◆◆~~~
रचनाकार -डिजेन्द्र कुर्रे“कोहिनूर”
पीपरभवना,बलौदाबाजार (छ.ग.)
मो. 8120587822

4 Likes · 1 Comment · 27 Views
Like
284 Posts · 9.4k Views
You may also like:
Loading...