.
Skip to content

नन्ही परी!!!

सुनीता महेन्द्रू

सुनीता महेन्द्रू

कविता

January 13, 2017

नन्ही परी!!!
‘माँ मुझे बचा लो,माँ!! पर किसी ने न सुनी उसकी,
फिर से एक भ्रूण हत्या, क्या दोष था उस नन्ही परी का,
उसने तो कदम भी ना रखा था, इस निर्दयी दुनिया में,

कर रहा है तू, घड़ल्ले से कोख में उस नन्ही परी की हत्या,
क्यों भूल जाता है तू,
सृष्टि की उपज है वह, दुर्गा माँ का अवतार है वह,

कर रहा है तू, उस नन्ही परी का अपमान,
क्यों भूल जाता है तू,
खुशियों की सौगत लाती है वह, प्यार की मूरत है वह,

करता है तू दहेज़ के डर से हत्या जैसा घ्रणित और निकृष्ट काम,
क्यों भूल जाता है तू,
तेरा ही साया है वह, गुमान है तेरा वह,

क्यों भूल जाता है तू,
गुंजता है तेरा आंगन उसकी किलकारियों से,
वेद- पुराण भी अधूरे है बिन उसकी गाथाओं से,

मिटा देते हो उसका अस्तित्व अपने हवस के लिए,
मासूम नन्ही परियाँ होती है कुर्बान हर रोज़,
समझ अहमियत, ओ!! नादान इन्सान…..अतुल्य देन प्रकृति की वह,

नही है पराया धन वह, नहीं है मोहताज़ किसी पर वह,
बदलनी होगी तुझे सोच समाज की, मत कर खत्मा अपने वंश का,
ले प्रण, अब और नही होंगी कुर्बान कोई नन्ही परी!!!

Author
सुनीता महेन्द्रू
गुलाबी नगर में जन्मी मैं (सुनीता), मैने कभी नहीं सोचा था कि मैं लेखन की दुनिया में कदम रखूँगी, शिक्षा पूरी होने के बाद कब और कैसे मैने कलम को थामा, स्वंय नहीं जानती । 12 सालों से बैंकाक के... Read more
Recommended Posts
नन्ही परी!!!
नन्ही परी!!! ‘माँ मुझे बचा लो,माँ!! पर किसी ने न सुनी उसकी, फिर से एक भ्रूण हत्या, क्या दोष था उस नन्ही परी का, उसने... Read more
नन्ही जिद्द और चाइना डोर
एक नन्ही सी जिद्द खामोश हो गयी, लगता है हर जिद्द पूरी कर सो गयी, नन्ही सी जिद्द थी नन्ही सी परी की, देख ले... Read more
माँ मेरी माँ
???? माँ मेरी माँ, मुझे छोड़ के मत जाओ कुछ दिन तो मेरे साथ बिताओ। माँ मैं तुम बिन अकेली हो जाती हूँ, जब तुम... Read more
पुकारे हिंदुस्तान
बढ़ बढ़ तू, चल चल तू देश की ये पुकार है,  निर्लज नहीं तू निर्बल नहीं तू, वीरों की संतान है! सिहं सी दहाड़ तुझमे... Read more