.
Skip to content

नतमस्तक हुआ विज्ञान

Rita Singh

Rita Singh

कविता

November 7, 2016

नत मस्तक हुआ विज्ञान
आज प्रकृति के आगे ,
प्रदूषण की है मार पड़ी
कहाँ जाएँ मनुज अभागे ।
साँस लेना भी हो गया दूभर
प्राण वायु भी नखरे दिखलाए,
बता दो ऐ दिल्ली हमको
जाएँ तो अब कहाँ जाएँ ।
दूर दूर से आए यहाँ हम
रोजी रोटी कमाने को ,
पर रहना भी है अब मुश्किल
जब हवा शुद्ध नहीं जीने को ।
क्या होगा भौतिक विकास का
जब पर्यावरण ही दूषित होगा ,
बीमार मनुष्यता क्या करेगी
जब स्वस्थ नहीं तन मन होगा ।
जागो मानुष अब भी जागो
प्रकृति का सम्मान करो ,
वृक्ष लगाकर सूखी धरती पर
उसका पूर्ण शृंगार करो ।
देगी सुफल वो उसका तुमको
पीढ़ियाँ तक सुख उठाएँगी ,
हरी भरी होकर ये धरती
प्रदूषण मुक्त हो जाएगी ।

डॉ रीता
आया नगर,नई दिल्ली ।

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
अब ये दिन रात बदल जाएँ तो अच्छा होगा। मेरे हालात बदल जाएँ तो अच्छा होगा। भूलना उसको मेरे बस में नहीं है लेकिन। दिल... Read more
ग़ज़ल
न समझो शोर में शामिल वो सन्नाटा नहीं होगा । जो पूरा है अभी तक वो कभी आधा नहीं होगा ।। अगर सच है तो... Read more
अब तो सहन नही होगा
अब तो सहन नही होगा किए वार पर वार पाक ने हम सहकर मानवता करते पर अब रहम नही होगा अब तो सहन नही होगा।... Read more
चाँद सह्न पर आया होगा
होगी आग के दर्या होगा देखो आगे क्या क्या होगा ख़ून रगों में लगा उछलने चाँद सह्न पर आया होगा रस्म हुई हाइल गो फिर... Read more