23.7k Members 50k Posts

नटखट बचपन

गौरैयाँ की मधुर चहक सुन,
हम रोज सुबह उठ जाते थे l
पगडंडी राहों पर चलकर,
हम नदी नहाने जाते थे ll
चंदा को मामा कहते थे,
सूरज को काका कहते थेl
हम पेड़ लगाया करते थे,
पीपल की पूजा करते थे ll

बैलों की गाड़ी चढकर हम,
कहीं सैर में जाते थे l
नदी किनारे अमराई में,
पुरवा संग गीत गाते थे ll
गेहूँ सरसों के खेतों में,
हम तितली पकड़ा करते थे l
कोयल की मधु वाणी सुन सुन,
बागों में खेला करते थे ll

सुनते थे परियों कि कहानी,
हम दादा के पास बैठकरl
याद हमें आते है यारों,
कहाँ गया वो माटी का घरll
अम्बर जैसा मन था मेरा,
मंदिर जैसा दिल था पावनl
अब तो है जीवन में खटपट,
हाँ बीत गयें नटखट बचपन ll

✍दुष्यंत कुमार पटेल

173 Views
दुष्यंत कुमार पटेल
दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"
110 Posts · 20.9k Views
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing -...