31.5k Members 51.9k Posts

नज़र

*गंदगी तो, देखने वालों की,*
*’नज़रों में होती है..’*

*वरना कचरा चुनने वालों को तो,*
*”उसमें भी रोटी नज़र आती है…..”*

2 Likes · 4 Views
Nisha Garg
Nisha Garg
Kosli
188 Posts · 1.4k Views
Nisha garg Own And Famous writer's poem, Shayari, Gajal, etc email I'd gargnisha718@gmail.com
You may also like: