नजर की बातें....!!

नजर की बात नजर से उतारी नही जाती ,
दिल में हो मोहब्बत तो छुपाई नही जाती ।
हमारी लफ्ज़ो को अब कोई क्या समझेगा ,
जुबां की बातों को अब होंठो पे लायी नही जाती ।
मैं तो एक रेत सा हु ..बढ़ता ही जाऊंगा ,
किनारों को ये बात कभी सिखायी नही जाती ।
गर दिल में हो मोहब्बत तो इज़हार करो ,
दिल की बातें कभी दिल में दबायी नही जाती ।
आती नही समझ मुझे ये तेरी हर अदा ,
किसी के आँखों से काजल कभी चुरायी नही जाती ।
मैं पढ़ लेता हूं तेरे चेहरों पे लिखे लफ्ज़ भी,
हर बात मुझे कभी बतायी नही जाती ।

✍🏻हसीब अनवर

Like 2 Comment 0
Views 126

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing