.
Skip to content

कुछ खोया कुछ पा लिया, बीत रहा इक साल

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

दोहे

January 25, 2017

कुछ खोया कुछ पा लिया, बीत रहा इक साल
आओ अब चिंतन करें, मिला परीक्षण काल।।

खुशी कई हमको मिली, मिले कई ईनाम
मिलकर बाँटे आज सब, खुशियों की है शाम।।

देखे थे सपने कई, कर लेंगे सब काज
कमी कहाँ पर रह गई, चलो विचारे आज।।

रिश्तों के धागे खुले, हुए करीबी दूर
कह-सुन ले बातें सभी, मद हो चकनाचूर।।

बुरा किसी का जो किया, कर लो आज सुधार
पश्चाताप अभी करो, रहे नहीं सिर भार।।

सोलह वाला दे गया, खुशियाँ अमिट, अपार
सत्रह की आहट बुने, मन में रंग हजार।

आने वाला है नया, देखो फिर इक साल
इक इक पल का सोच लो, होगी कैसी चाल।।

हर इक पल को तुम गुनो, करो व्यर्थ नहि कोय
सार्थक ही सब काज हो, आत्म सन्तुष्टि होय।।

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
भोपाल

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
नये साल में सब
सभी को हंसाएँ नये साल में सब मुहब्बत लुटाएँ नये साल में सब भुलाकर गमों और रंज की सजाएँ गले से लगाएँ नये साल में... Read more
मेला
मेला जीवन एक मेला है दौड़ते सब सरपट यंहा न जाने किस खोज मैं देते सब एक दूजे को ठेला है !! ढूढ़ते है दर... Read more
***आज बस आज **
आज यह वादा करो आज यह इरादा करो आज में ही जीना है आज में ही मरना है आज बस आज है आज के बाद... Read more
गाता राजस्थान
कला क्षेत्र यह देश का,वीरों की है खान! मीरा के पावन भजन,..गाता राजस्थान! ! थम जायेगा आज फिर, गीतों का इक दौर ! हमें छोड़... Read more