.
Skip to content

“नए समाज की ओर”** काव्यात्मक लघु नाटिका

Neeru Mohan

Neeru Mohan

अन्य

February 9, 2017

पात्र- माँ , बेटी , पिता और सूत्रधार
**************************

*** सूत्रधार – आज देश में कई प्रकार की बुराइयाँ फैली हुई है | इन बुराइयों और रूढ़िवादिता को त्याग कर ही हम अपने देश के उत्थान में अपना योगदान दे सकते हैं |शिक्षा संबंधी अधिकार जो संविधान द्वारा हम सभी पर समान रुप से लागू है जिसके अनुसार सभी को शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार है |यह लघु नाटिका इसी अधिकार से संबंधित है| आज भी समाज में कुछ ऐसे समुदाय हैं जो अपनी बेटियों को इस अधिकार से वंचित रखते हैं |हमें उनकी इस सोच को बदलना होगा |
तो चलिए चलते हैं ” नए समाज की ओर नई सोच के साथ|”

*** सूत्रधार- बेटी माँ के समक्ष अपने पढ़ने की इच्छा को जाहिर करती है |

** बेटी- माँ मैं भी हूँ पढ़ना चाहती |जीवन में ,मैं कुछ करना चाहती |
क्या है यह ? मुझको अधिकार |

** माँ- हाँ बेटी, जो चाह है तेरी वहीं चाह मेरी भी है|
पढ़-लिख कर तू नाम कमाए चाह यही मेरी भी है |

** बेटी- पढ़-लिख कर मैं बनना चाहती टीचर,डॉक्टर या कलाकार |
क्या मैं हूँ कम किसी बाल से मुझको भी है यह अधिकार |

** माँ- मेरा भी यह था एक सपना कि मैं भी पढ़ लिख जाऊँ |
पर जो मैं न कर पाई और जिस वजह से न कर पाई ऐसा पल न आने दूँगी मैं अब तेरे साथ |

** बेटी- माँ! अब क्या यह होगा संभव मुझको बतला दे तू इस पल |

** माँ- समझाऊँगी तेरे बापू को न समझो गहना बेटी को |
खुले गगन में पंख फैलाकर उड़ने दो उन्मुक्त गगन में |

**** सूत्रधार- पिता, माँ और बेटी की यह सारी बातें सुन रहा होता है वह गुस्से में कहते हैं |

** बापू- जोर जोर से क्यों चिल्लाए |मुझको यह तू क्यों समझाए |
रहना है हमको समाज में तुझको यह क्यों समझ न आए |

** बेटी- ऐ प्यारे बापू, मैं बतलाती तुम्हें
क्या मुझको बनना है |
देश की सेवा करके ही मुझको जीवन अर्पण करना है |
नहीं मुझे परवाह समाज की |
क्या कहता क्या सोच है इसकी ?
पर यह मेरा छोटा सा सपना तुम को ही पूरा करना है |

** बापू- लड़की होती है धन पराया उसका ख्याल हमें रखना है |
ऊँच-नीच न हो जाए इसका भी ध्यान हमें रखना है |
लड़की होती है घर की शोभा घर में ही है उसको रहना |
घर परिवार की सेवा करना यही तक ही है उसकी सीमा-रेखा |

** माँ- अरे सुनो! मुन्नी के बापू संकीर्ण विचार का त्याग करो |
पढ़ा-लिखा बेटी को अपनी स्वावलंबी बनाने का प्रयास करो |
फेंक निकालो इस विचार को बेटी की है कोई सीमा रेखा और उसे है केवल इस चारदीवारी में ही रहना |

** बेटी- जन्मदाता मेरे पालनकर्ता मान भी जाओ यह मेरी बात |
अपनी हामी दे कर दे दो मुझको शिक्षा का मौलिक अधिकार |

** माँ- बेटी ईश्वर की अनुकंपा ,बेटी है अनमोल धरोहर|
जीवन है उसका अधिकार ,शिक्षा है उसका हथियार |
न करो निहत्था उसको तुम, दे दो उसको उसका अधिकार |

**** सूत्रधार- माँ और बेटी के समझाने पर पिता को यह बात समझ में आ जाती है | बेटी की करुणा भरी पुकार से पिता का मन पिघल जाता है

** बापू- ऐ मेरी प्यारी सी बेटी, लाडो सी प्यारी सी बेटी |
यह बात समझ आ गई है अब |
न किसी से कम होती है बेटी |
आज अभी से इस विचार का त्याग यहीं मैं करता हूँ और सभी को आज अभी संदेश यही में देता हूँ|
माना,माना होती बेटी एक गहना उजियारा जो लाती है |
पढ़-लिख जाए तो समाज को नई दिशा दिखलाती है |

** माँ/बापू – इसीलिए ऐ लोगों सुन लो |मत रहने दो बेटी को अनपढ़ |
जग जाओ उठ जाओ ,जाग जाओ उठ जाओ |
“बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ” इस देश के आने वाले कल को जगमग ,उज्जवल सुंदर बनाओ |

**** सुत्रधार- बेटियाँ उगते सूरज की नई किरण हैं जो एक नए समाज का उत्थान करने और उसे नई दिशा प्रदान करने की क्षमता रखती है|
बेटी अभिशाप नहीं है |
बेटी सृष्टि का मूल आधार हैं |
बेटी संस्कृति की संवाहक है |
बेटी भविष्य की जन्मदात्री है |
बेटी है तो कल है |
बेटी शिक्षित है तो भविष्य सभी का उज्ज्वल है |

*******धन्यवाद*****

Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more
Recommended Posts
बदलते युग में शिक्षा के बदलते उद्देश्य और महत्व
शिक्षा एक ऐसा माध्यम है जो जीवन को एक नई विचारधारा प्रदान करता है। यदि शिक्षा का उद्देश्य सही दिशा में हो तो आज का... Read more
संविधान और मूल अधिकार
आज़ादी के बाद देश में बना हमारा नया विधान , गणतंत्र भारत को मिला अपना एक लिखित संविधान । बाबा अंबेडकर निर्माता इसके कानून के... Read more
गुणात्मक शिक्षा मे अभिभावकों का योगदान।
आधुनिक शिक्षा व्यवस्था विशेषकर सरकारी पाठशालाओं मे दी जाने वाली शिक्षा आजकल बहुत सारे प्रयोगों से गुजर रही है।अभी तक पुरी तरह सभी शिक्षाविद् इस... Read more
हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।
हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।हर साल हम स्वाधीनता दिवस और गणतंत्र दिवस जोर शोर से मनाते हैं और अपने महान राष्ट्रीय नेताओं... Read more