31.5k Members 51.9k Posts

नए वर्ष की नई उमंग

Jun 18, 2016 05:13 PM

2015 के नव वर्ष की शुभ बेला पर लिखी एक कविता

नए वर्ष की नई उमंग में
भर लो मन को नई तरंग में
होत संयोग जब उमंग-तरंग का
अानंद से सबका मन भरता
मन का साज मुखरित हो उठता
सुन मधुर विकंपन मधुमय मन का
थिरकन उठते पैर धरा पर
सुन संगीत अानंद लहरों का!

18 Views
Dr. Chitra Gupta
Dr. Chitra Gupta
10 Posts · 2.5k Views
Associate Professor, Sangeet Department, Agra College, Agra
You may also like: