धुन अपनी मत छोड़ना, सुधरेंगें हालात !!

धुन अपनी मत छोड़ना, सुधरेंगें हालात !!
***********************************

बने विजेता वो सदा, ऐसा मुझे यकीन !
आँखों में आकाश हो, पांवों तले जमीन !!

तू भी पायेगा कभी, फूलों की सौगात !
धुन अपनी मत छोड़ना, सुधरेंगें हालात !!

बीते कल को भूलकर, चुग डालें सब शूल !
बोयें हम नवभोर पर, सुंदर सुरभित फूल !!

तूफानों से मत डरो, कर लो पैनी धार !
नाविक बैठे घाट पर, कब उतरें हैं पार !!

नए दौर में हम करें, फिर से नया प्रयास !
शब्द कलम से जो लिखें, बन जाये इतिहास !!

आसमान को चीरकर, भरते वही उड़ान !
जवां हौसलों में सदा होती जिनके जान !!

उठो चलो, आगे बढ़ो, भूलों दुःख की बात !
आशाओं के रंग से, भर लो फिर जज्बात !!

छोड़े राह पहाड़ भी, नदियाँ मोड़ें धार !
छू लेती आकाश को, मन से उठी हुँकार !!

हँसकर सहते जो सदा, हर मौसम की मार !
उड़े वही आकाश में, अपने पंख पसार !!

हँसकर साथी गाइये, जीवन का ये गीत !
दुःख सरगम सा जब लगे, मानो अपनी जीत !!

सुख-दुःख जीवन की रही, बहुत पुरानी रीत !
जी लें, जी भर जिंदगी, हार मिले या जीत !!

✍ प्रियंका सौरभ

Like 1 Comment 1
Views 19

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share